Wednesday, 22 November 2017

रामराये के महत्वपूर्ण तथ्य



रामराये  के महत्वपूर्ण  तथ्य :

  • रामराये तीर्थ 29.17 उत्तरी  अक्षांश तथा 76.14 पूर्वी देशान्तर पर स्थित है। 
  • यह प्राचीन तीर्थ राम ह्रदय स्थित है जिसका विवरण कनिंघन ने पुरातत्व विभाग की रिपोर्ट 14 (89-90 ) में किया गया। 
  • यह स्तान कुरुक्षेत्र के दक्षिण-पश्चिम यक्ष कपिल द्वारपाल के रूप में स्थित है। 
  • वामन पुराण (13.45) के अनुसार यहाँ पर कपिल यक्ष की पत्नी उलखल मेखला यक्षि देवी का  मंदिर स्थित है। 
 माँ यक्षि देवी  मंदिर का मुख्य द्वार 




माँ यक्षि देवी मंदिर 




माँ यक्षि देवी 
  • यह स्थान भगवान परशुराम के इतिहास का उल्लेख करता है तथा यहाँ यहाँ  भगवान  का मंदिर स्थित है। 
परशुराम मंदिर 
  • पौराणिक कथानुसार यह स्थान भगवान परशुराम की तपः स्थली व कर्म स्थली है।  
  • वामन पुराण (13.45) के अनुसार यहाँ भगवान परशुराम के पांच अमृत कुण्ड है इन अमृत कुण्डो में भगवान परशुराम ने हैहय वंशीय राजा महाराजाओं की मुक्ति हेतु तर्पण किया था (14-13)VP  के अनुसार इन कुण्डों के नाम रामह्रदय ,सन्निहित  सरोवर,सूरज कुण्ड, कल्याणी कुण्ड तथा गोविन्द कुण्ड है। 
  • श्रीमद्ध भागवत महापुराण तथा  महाभारत ग्रन्थ के अनुसार भगवान श्री कृष्ण तथा  बलराम जी यादवों के साथ सूर्यग्रहण के अवसर द्वारिका से यहाँ स्नाननार्थ पधारे। 
  • राम ह्रदय तीर्थ में प्रत्तेक पूर्णिमा को दूर-दूर से श्रदालु  सन्नार्थ तथा भगवान परशुराम के दर्शनार्थ यहाँ आते है। 
  • प्रचलित मतानुरार इस राम हृदय सरोबर से स्नात से मनुष्य मोक्ष प्राप्त करता है।
  • रामराये में मध्यकालीन कुषाण तथा गुप्तकाल की ईंटे भी पाई जाती है।
  • इस तीर्थ का नाम बह्मा की पंचम वेदी समन्त पंचक भी है।


No comments:

Post a Comment